हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है जब नींद पूरी नहीं होती है – नींद पूरी न होने पर हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है

0
8


आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में अच्छी नींद बहुत मुश्किल हो गई है। सोशल मीडिया और वीडियो गेम्स ने बची-खुची नींद भी उड़ा दी है। ऐसे में नींद पूरी न हो पाने पर हम अक्सर जंक फूड खाना ज्यादा पसंद करते हैं।

आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में अच्छी नींद बहुत मुश्किल हो गई है। सोशल मीडिया और वीडियो गेम्स ने बची-खुची नींद भी उड़ा दी है। ऐसे में नींद पूरी न हो पाने पर हम अक्सर जंक फूड खाना ज्यादा पसंद करते हैं। कभी आपने सोचा है कि नींद पूरी न होने के कारण होने वाली थकावट और जंक फूड का आपस में क्या संबंध है? इस सवाल का जवाब हमारे अतीत में छिपा है जब हम खाने और शारीरिक ऊर्जा के लिए पूरी तरह से कंद-मूल, मछलियों और शिकार पर आश्रित थे। सरल शब्दों में कहें तो शरीर में नींद पूरी न हो पाने से होने वाली एन्जाएंटी हमारे अंदर उस प्रवृत्ति को बढा’ती है जो भरपूर, मिठाई, वसिकुत लजीज खाने की ओर आकर्षित होती है। हमारी इस प्रवृत्ति पर शोध करने वाले सहायक शोधकर्ता प्रोफेसर हैनलोन का कहना है कि विकास की दृष्टि से उच्च व्यंजनों और उच्च वसा वाले भोजन का सेवन करना आदिम युग में एक बड़ी बात थी। क्योंकि रोज़ शिकार मिलना मुश्किल था, कबीले बड़े थे और शिकार करने में शारीरिक ऊर्जा बहुत खर्च होती थी। ऐसे में सभी के हिस्से में बहुत कम कैलोरी और उच्च वसा वाला भोजन आ पाता था। जब कभी हम किसी दावत के बारे में सोचें या भूख की स्थिति में हों तो हमारा दिमाग हमें कहेगा कि हम ऐसा ही काब्र्स और वसा से भरा भोजन ही तो खाना चाहते हैं। ऐसा इसलिए कि उस मानव विकास के क्रम में हमारा शरीर और हमारे आसपास जितना तेजी से भोजन के विकल्प विकसित हुए उतनी ही तेजी से हमारे दिमाग विकसित नहीं हुए।

नींद पूरी न होने पर भूख लगती है –
हमारे शरीर में दो हरामन लेप्टिन और घ्रेलिन हमारे खान-पान की आदतों को नियंत्रित करते हैं। वजन घटाना हो या फिर बढ़ाना ये दोनों हारणेन के सही से काम करने पर ही संभव होगा। लेप्टिन हमारी भूख को दबाता है और इसलिए यह वजन घटाने में मदद करता है जबकि घ्रेलिन तेजी से हमारी भूख को दबाने के लिए है। प्रोफेसर हैनलोन का कहना है कि जब हम किन्हीं कारणों से पूरी नींद नहीं ले पाते हैं तो घ्रेलिन का स्तर बढ़ जाता है और परिणाम भूख में वृद्धि होती है। लेकिन हम जंक फूड क्यों खाते हैं?

शरीर का यह सिस्टम जिम्मेदार है –
इसका जवाब हमेंं शरीर की एक और प्रक्रिया- द एन्डोकैनाबिनॉएड सिस्टम से मिलता है। इसका काम हमारे शरीर को संतुलन में रखना है और यह नींद, दर्द, सूजन से लेकर भूख लगने तक सब कुछ नियंत्रित करता है। वैज्ञानिकों ने 1988 में पहली बार चूहे के दिमाग में पहली एन्डोकैनाबिनॉएड रिसेप्टर खोजा था। कुछ वर्षों बाद उन्होंने सीबी 1 और सीबी 2 नाम के दो और रिसेप्टर पाए। यह दोनों प्रकार के जीवों में होते हैं।

यह एक प्राचीन प्रणाली है जो युगों पहले विकसित हुई थी। एन्डोकैनाबिनॉएड रिसेप्टर्स के लिए ज्ञात सबसे प्राचीन जीव समुद्री स्क्वर्ट है जो 60 करोड़ साल पहले धरती पर रहा था। लेकिन खाने के साथ एन्डोकैनाबिनॉएड सिस्टम का क्या संबंध है। दरअसल इसमें भी वही रिसेप्टर्स होते हैं जो मारिजुआना में एक सक्रिय घटक के रूप में काम करते हैं और हमें इसकी नशा करने के लिए बाध्य करता है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि एन्डोकैनाबिनॉएड ही वह सिस्टम है जो हमें फैट, स्टार्च और शक्करयुक्त भोजन खाने के लिए वंशानुगत तरीके से हमें बाध्य करता है। जबकि लेप्टिन और घ्रेलिन के कारण नींद की कमी इसे और बदतर बना रही है। प्रोफेसर हैनलोन ने अपने शोध में पाया कि एन्डोकैनाबिनॉएड का स्तर उन लोगों में सबसे ज्यादा मिला जो लोग चार रातों से केवल 4.5 घंटे की ही नींद लेते हैं जबकि 8 घंटे की नींद लेने वालों में इसकी मात्रा कम थी। यह शोध अभी भी अपने पाठकों के चरण में है और शोधकर्ता अभी तक इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचे हेंद कि ऐसा किस कारण से होता है। लेकिन इतना तय है कि इसकी वजह से हमें जंक फूड खाने की जबरदस्त इच्छा होती है। इससे बचने के लिए आप 8 घंटे की अच्छी नींद लें।







और दिखाओ











Source link