कृषि स्टार्टअप में कैरियर कैसे बनाएं – एग्रीटेक स्टार्टअप्स, शाइनिंग कैटर बनाएं, सालाना कमाएंगे करोड़ों

0
10


एग्रीकल्चर व्यवसाय में अलग-अलग स्तर पर मौके हैं। यानी फाइनेंस, तकनीक और गैर-तकनीकी क्षेत्रों के इच्छुक युवाओं के लिए मौके बन सकते हैं।

माना जा रहा है कि कोरोना के बाद कृषि क्षेत्र पर फिर सबका ध्यान आ सकता है। ऐसे में एग्रीकल्चर के फील्ड में अपना कैटरिंग बनाने के मौके नहीं छोड चाहिएे चाहिए। यदि आपके कृषि और विभिन्न खाद्य प्रोडक्ट्स में दृश्य है और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित प्रसंस्करण इकाइयों में काम करने की इच्छा, आंतरिक बाजार में एग्रो प्रोडक्ट्स की मांग और पूर्ति पर नजर, तर्कसंगत सोच और नेतृत्व की क्षमता हो तो यह क्षेत्र आपका कैरमेकाका हो सकता है। ।

ये भी पढ़ें: 10 वीं पास करने के बाद

ये भी पढ़ें: अब नया कंप्यूटर केवल 2500 रुपए में होगा

नए जने के कोर्सेज
एग्रीकल्चर व्यवसाय में अलग-अलग स्तर पर मौके हैं। यानी फाइनेंस, तकनीक और गैर-तकनीकी क्षेत्रों के इच्छुक युवाओं के लिए मौके बन सकते हैं। हालांकि एग्रकल्चर के विशेष अध्ययन से इस क्षेत्र को करीब से जानने का मौका मिलता है और प्रवेश करना आसान होता है। इसमें मदद करने के लिए कई संस्थानों में एग्रीबिजनेस विषय पर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कराए जाते हैं। कोर्स के दौरान एग्रो इंडस्ट्री में इंटर्नशिप करने के मौके मिलते हैं और कैंपस फाइनेंस की सुविधा भी। अब ये कोर्सेज नए जमाने के माने जाने लगे हैं।

ये भी पढ़े: एक्वापोनिक्स फॉर्मिंग में बेहतर कैडर है, लाखों घर बैठे कमाते हैं

ये भी पढ़े: ये छोटी सी बात बदल सकती है आपकी लाइफ, आज ही आजमाए हैं

इन संस्थानों से किए जा रहे एग्रीकल्चर कोर्सेज हैं
एग्रीकल्चर में कैटर बनाने के लिए बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, वाराणसी, चंद्रशेखर आजाद यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर साइंस एंड टेक्नोलॉजीज, उत्तर प्रदेश, गोविंद बल्लभ पंत यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजीज, पंतनगर (उत्तराखंड), राजेन्द्र एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, पूसा, (बिहार) इयासी-नेशनल यूनिवर्सिटी एकेडमी ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च मैनेजमेंट, हैदराबाद, सहित कई यूनिवर्सिटीज से भी कोर्स जा सकते हैं। इसके अलावा स्थानीय स्तर के मान्यता प्राप्त संस्थानों से भी कोर्सेज कर सकते हैं।







और दिखाओ


















Source link