बस्ती उत्तर प्रदेश में पुलिस की लापरवाही के कारण लड़की की आत्महत्या

0
17


उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में पुलिस की कार्रवाई से नाराज होकर एक दलित किशोरी ने आत्महत्या कर ली। किशोरी के साथ तीनों युवकों ने बलात्कार करने की कोशिश की थी और विरोध करने पर उसके साथ जमकर मारपीट भी की थी।

बस्ती: उत्तर प्रदेश में पुलिस अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रही है और इसी का नतीजा है कि एक दलित किशोरी को मौत के साथ आर्थिक नुकसान हो गया है। 18 साल की दलित किशोरी के साथ गांव के ही तीन मनचलों ने पहले छेड़खानी की और जब इस बात की शिकायत स्थानीय चौकी पर की गई तो पुलिस ने कार्रवाई के बजाय किशोरी की अस्मत का सौदा करते हुए मामले में सुलह करा दी।

पुलिस की कार्रवाई से नाराज होकर किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या की खबर जैसे ही पुलिस महकमे तक पहुंची तो आनन-फानन में तीन के बजाय दो मनचलों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया। लेकिन मुकदमे को भी पुलिस ने छेड़खानी के बजाए आपत्तिजनक टिप्पणियाँ में बदल दिया।

दरअसल, मामला वाल्टरगंज थाना क्षेत्र के मंझरिया गांव का है, जहां 18 साल की एक किशोरी अपने घर की तरफ जा रही थी। तभी गांव के तीन युवक मोटरसाइकिल से आए और किशोरी को धक्का देकर गिरा दिया। इसके बाद किशोरी के साथ तीनों युवकों ने बलात्कार करने की कोशिश की और विरोध करने पर उसे जमकर मारा पीटा।

पीड़ित किशोरी अपने घर पहुंची और माता-पिता को आपबीती सुनाई, जिसके बाद परिजन वाल्टरगंज थाना क्षेत्र में पड़ने वाली गणेशपुर चौकी पहुंचे और तहरीर दी। लेकिन इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करने के बजाय सुलह करा दी और 24 घंटे बाद ही नाराज किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

पूरे मामले को लेकर एडिशनल एसपी पंकज पांडे ने बताया कि तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा पंजीकृत कर लिया है और जांच में जो भी तथ्य सामने आयांगे पुलिस उस आधार पर आरोपियों के नाम बढ़ाएगी और कार्रवाई करेगी।

ग्रेटर नोएडा में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, तीन बदमाश दबोचे गए, लूट के माल से लदा ट्रक ब्लाक



Source link